Never use This types of Words in Network Marketing नेटवर्क मार्केटिंग में हैं तो ये शब्द कभी भूलकर भी इस्तेमाल ना करना

Never use This types of Words in Network Marketing. आज के इस लेख में मैं आप सभी को बताऊंगा कि क्यों आपके डाउन लाइन इंडिपेंडेंट होकर काम नहीं करती है ?

Never use This types of Words in Network Marketing-min

क्यों छोटी-छोटी बातों पर आपके पास कॉल करती है ?

तो आपके डाउन लाइन आपके पास कॉल इसलिए करती है क्योंकि यह जो अप लाइन और डाउन लाइन का शब्द है यह बहुत ही जहरीला शब्द है।

जिस समय आप अपने आपको आप लाइन मानने लगते हैं उसी समय से आपके अंदर बॉस वाली फीलिंग डिवेलप हो जाती है कि मैं बॉस हूं और मेरी जितनी डाउन लाइन है वह सब मुझे बॉस कहेंगे क्योंकि मैं उनका बॉस हूं।

और जैसे ही आप बॉस बनते हैं वैसे आपके डाउन लाइन एंप्लॉय बन जाती है और एंप्लॉय कभी भी किसी का भी ईमानदार नहीं होता है।

एंप्लॉय कभी भी किसी को पूरा 100% ईमानदारी के साथ काम करके नहीं देती।

हमारे साथ टेलीग्राम पर जुड़ें

क्योंकि वह तो एक एंप्लॉय है और कोई नुकसान भी होगा तो एंप्लॉय का नुकसान नहीं होगा बॉस को नुकसान होगा और कंपनी का नुकसान होगा।

एंपलाई को जितना काम बोला जाता है उतना काम वो करके दे देती है और वह भी पूरी 100% ईमानदारी के साथ नहीं करती है।

तो इस हालात में ऑर्गनाइजेशन की ग्रोथ नहीं हो पाएगी क्योंकि जब तक हर एक टीम मेंबर अपना 100% नहीं लगाएगा तब तक ऑर्गनाइजेशन की ग्रोथ नहीं हो पाएगी और ग्रोथ होगी भी तो छोटी-मोटी ग्रोथ होगी बड़ी ग्रोथ नहीं हो पाएगी।

तो अगर आप एक अप लाइन हैं तो मैं आपसे एक बात बताना चाहूंगा कि सबसे पहले तो आप अपने आपको अप लाइन बोलना बंद कर दीजिए।

और डाउन लाइन को डाउन लाइन बोलना बंद कर दीजिए आप इस शब्द का इस्तेमाल ही खत्म कर दीजिए।

आप यह मानिए कि मेरी टीम में कोई भी अप लाइन नहीं है कोई भी डाउन लाइन नहीं है बस हम लोगों का एक टीम हैं आप ऐसा मान कर चलिए।

हमारे साथ टेलीग्राम पर जुड़ें

और अगर आपको किसी को अप लाइन बोलना है तो आप उसको मेंटर बोलिए।

क्योंकि वह तो मेंटर का ही रोल अदा करते हैं वह सिखाते हैं वह गाइड करते हैं इसलिए उनको मेंटर बोलिए।

और जो आपके डाउन लाइन हैं उनको आप बस टीम शब्द का इस्तेमाल कीजिए।

मैं आप सभी को यहां पर यह बताना चाहूंगा कि क्या आपको पता है कि अप लाइन और डाउन लाइन का शब्द क्यों बनाया गया था ?

अगर नहीं पता है तो मैं आप सभी को आज की इस लेख में क्लियर कर दूंगा कि अप लाइन और डाउन लाइन का शब्द क्यों बनाया गया था, तो यह अप लाइन और डाउन लाइन का शब्द इसलिए बनाया गया था,

हमारे साथ टेलीग्राम पर जुड़ें

यह जो कंपनी होती है यह कंपनी अपने सिस्टम को मैनेज करने के लिए अप लाइन और डाउन लाइन का शब्द बनाती है।

यानी कि कौन इस बिजनेस में या इस कंपनी में पहले आया था ,और कौन बाद में आया था ,कौन किस के नीचे है, कौन सबसे ऊपर है ?

इस चीज को मैनेज करने के लिए अप लाइन और डाउन लाइन का शब्द कंपनी बनाई थी लेकिन लोग अपने बिजनेस में इस्तेमाल करने लग जाते हैं।

और यह जो अप लाइन और डाउन लाइन का शब्द है यह शब्द दिमाग पर जहर की तरह काम करती हैं।

इसलिए मैं आप सभी से यही कहना चाहूंगा कि आप अपने डाउन लाइन को कभी भी एंप्लॉय मत बनाइए।

अगर ओनरशिप वाला फीलिंग आपको उनको देनी है तो आप उनको पार्टनर बनाइए, उनको टीम मेंबर बनाइए, उनको अपना दोस्त बनाइए।

डाउन लाइन का शब्द आप बिल्कुल भी इस्तेमाल मत कीजिए।

आप कारपोरेट वर्ल्ड में भी देखते होंगे कि कुछ ऐसी कंपनियां है,

जैसे कि गूगल ,एप्पल जैसी कंपनियां है जो अपने एंप्लॉय को कभी भी एंप्लॉय फील नहीं होने देती है।

यह उनको इतनी फैसिलिटी देती है चारों तरफ से कि उनको कभी यह महसूस ही नहीं हो पाता है कि वह इस कंपनी के एंप्लॉय हैं।

वह कंपनी ऐसी है जो अपने एम्पलाई को मालिक बना कर रखती है और मालिक वाली फीलिंग देती है अपने एंप्लॉय को सोफे पर बैठाती है।

और अगर बात की जाए छोटी कंपनियों की तो कुछ ऐसी छोटी छोटी कंपनियां है हर छोटी-छोटी चीजों पर एंप्लॉय पर चिल्लाने लगते हैं उस एंप्लॉय को हमेशा एंप्लॉय वाली फिलिंग देते हैं।

अगर थोड़ी देर हो जाती है तो वह अपने एंप्लॉय पर चिल्लाने लगते हैं और यह बोलने लगते हैं कि इतनी लेट क्यों आ रहे हो या इतनी छुट्टी क्यों ?

यानी कि हर बात बात पर उस employer-employee वाली फिल कराते रहते हैं।

तो जब इतना कुछ होगा तो एंप्लॉय कभी भी पूरी 100% ईमानदारी के साथ काम नहीं करेगा यानी कि वह मन से काम नहीं करेगा।

और जब एंप्लॉय ही मन से काम नहीं करेगा तो ऑर्गनाइजेशन की ग्रोथ कैसे हो पाएगी ?

तो अगर आप अपनी टीम की अपनी ऑर्गेनाइजेशन की ग्रोथ चाहते हैं तो इंडिपेंडेंट बनाने के लिए उनके डाउन लाइन वाली फीलिंग को ही उनके दिमाग से निकाल दीजिए।

इसलिए आप अपनी टीम में कभी भी डाउन लाइन और अप लाइन का शब्द ही इस्तेमाल मत कीजिए।

अगर आप इस लेख में बताए गए बातों को ध्यान में रखकर अपने टीम में काम करेंगे तो आपकी ऑर्गेनाइजेशन बहुत ही जल्द ग्रोथ करेगी।

यदि आप सभी को आज का हमारा यह लेख (Never use This types of Words in Network Marketing नेटवर्क मार्केटिंग में हैं तो ये शब्द कभी भूलकर भी इस्तेमाल ना करना) पसंद आया हो तो कृपया करके आप सभी हमारे इस लेख को अपने टीम के हर मेंबर के साथ जरूर शेयर करें।

ताकि वह सभी लोग भी (Never use This types of Words in Network Marketing नेटवर्क मार्केटिंग में हैं तो ये शब्द कभी भूलकर भी इस्तेमाल ना करना) के बारे में समझ सके और दूसरों को समझा सके।

आप और भी ऐसे बहुत सारे लेख पढने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.networkmarketinghindi.com पर Visit कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें

आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

अपने नेटवर्क मार्केटिंग बिज़नेस को 10 गुना रफ़्तार से बढाने के लिए हमारे साथ जुड़िये

नेटवर्क मार्केटिंग हिंदी VIP कम्युनिटी
टेलीग्राम चैनल
ज्वाइन करें
नेटवर्क मार्केटिंग हिंदी
टेलीग्राम ग्रुप डिस्कशन
ज्वाइन करें
नेटवर्क मार्केटिंग हिंदी फेसबुक पेज फॉलो करें
नेटवर्क मार्केटिंग हिंदी फेसबुक ग्रुपज्वाइन करें

Angesh Kumar Gond | Blogger | YouTuber, Hello Guys, मेरा नाम अंगेश कुमार गोंड हैं । मैं एक ब्लॉगर और youtuber हूं । मेरा दो YouTube चैनल है । एक Angesh Kumar Gond जिस पर एक लाख से अधिक सब्सक्राइबर हैं और दूसरा AG Digital World यह मेरा एक नया चैनल है जिस पर मैं लोगों को ब्लॉगिंग और यूट्यूब के बारे में सिखाता हूं, कि कैसे कोई व्यक्ति जीरो से शुरुआत करके एक अच्छा खासा यूट्यूब चैनल और वेबसाइट बना सकता है । Thanks.

Leave a Comment