Hindi Kahani  गधा और बाघ की कहानी एक बार एक जंगल में गदहा और बाघ All about to network marketing and direct selling in hindi

गधा और बाघ की कहानी Best Hindi Kahani

Hindi Kahani  गधा और बाघ की कहानी

          आज मैं आप सभी के सामने गदहा और बाघ की बहुत अच्छी Hindi Kahani के बारे में बताने वाल हूँ . आप इस Hindi Kahani को बहुत ध्यान से पढ़िए और इस समझने की कोशिश कीजिये.

Hindi Kahani

एक बार एक जंगल में गदहा और बाघ में बहस चल रहा था घास को लेकर गधा बोल रहा था की घास नीला होता है और बाघ बोल रहा था कि घास हरा होता है. गदहा फिर से बोले की घास निला होता है और बाघ बोले की घास हरा होता है.

          दोनों में काफी देर तक बाहस चला बाघ, गधे को बार-बार समझाए की घास हरा होता है लेकिन गधा मानने को तैयार नहीं की घास हरा होता है . दोनों ने निर्णय किया की जंगल के राजा शेर के पास चला जाए और उनसे कहा जाए राजा साहब जो बोल देंगे वो मानना पड़ेगा. दोनों शेर के पास चले गए बाघ ने शेर से कहा देखिए ना साहब मैं काफी देर से इनको समझा रहा हूं कि घास हरा होता है. लेकिन ये मानने को तैयार नहीं की घास हरा होता है वही बात गधा बोला कि काफी समय से इनको मैं समझा रहा हूं कि घास निला होता है यह मानने को तैयार नहीं.

Hindi Kahani

          शेर ने दोनों की बातें सुनी और कहा घास तो नीली ही होती है इतना बोल कर गधे को छोड़ दिया जाता है और बाघ को 1 साल की सजा हो जाती है. यह सुनकर बाघ बड़ी दुखी होता है और सोचता है जब राजा साहब मुझे सजा दिया है तो अब मुझे सजा काटनी ही पड़ेगी.

Advertisement

इसे भी पढ़ें : – काम ऐसा करो जो पूरी दुनिया में सिर्फ 1 प्रतिशत लोग ही करते हैं Motivational Story in Hindi.

          बाघ ने बड़ी विनम्रता से राजा से बात करने की अनुमति मांगी , तो राजा ने कहा बोलो , तो बाघ ने बोला की महाराज आप तो जानते हैं की घास तो हरा ही होता है हाँ बिल्कुल सही है घास तो हारा ही होता है. फिर भी आपने गदहे को छोड़ दिया और मुझे 1 साल की सजा दे दी. इस पर शेर ने बड़ी सुंदर जवाब दिया कि तुमको सजा इस बात की नहीं मिली घास हरा होता है कि नीला होता है बल्कि तुम को सजा इस बात की मिली कि तुम बहस किससे कर रहे थे. ( गदहे से )

Hindi Kahani Summery

          दोस्तों यह कहानी हमें बताती है कि जिंदगी में कभी-कभी सही होते हुए भी गधों से बहस करने से ज्यादा अच्छा होता है कि हम खुद अपनी गलती स्वीकार कर लें. घास यदि हारा है तो वह हरा ही रहेगा किसी कहने से वह नीला तो होगा नहीं. उम्मीद करता हूं दोस्तों आपको यह कहानी बहुत पसंद आई होगी.

इसे भी पढ़ें : – Amazon India Diwali Offers 2019 अमेज़न इंडिया दिवाली ऑफर्स 2019

          Hindi Kahani यदि पसंद आई हो तो प्लीज इस Hindi Kahani को ज्यादा से ज्यादा अपने दोस्तों के में शेयर करें ताकि यह Hindi Kahani समझ सके और यदि आपके पास इसी तरह की कोई अच्छी Hindi Kahani हो तो आप हमें Mail कर सकते हैं हमारा मेल आईडी है [email protected]

बहुत-बहुत धन्यवाद.

Advertisement
Please Share This

ANGESH KUMAR

Hello Everyone, My Name is Angesh Kumar. I'm hailing to Padruna - Kushinagar (U.P). I have completed my graduation from JSSEI Gonda in 2017.I'm a Digital Marketer and Network Marketer last 2 Years. I'm sharing my knowledge with you, So Please Support me.

Read Previous

काम ऐसा करो जो पूरी दुनिया में सिर्फ 1 प्रतिशत लोग ही करते हैं Motivational Story in Hindi.

Read Next

Network Marketing or Direct Selling Men List Kaise Banayen

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *