डायरेक्ट सेल्लिंग में NEGATIVE लोगों को समझाने का सबसे आसान तरीका Easiest way to convince NEGATIVE people in Direct Selling

Easiest way to convince NEGATIVE people in Direct Selling. अगर आप एक बहुत ही अच्छे अपलाइन हैं यानी कि एक ग्रेट अपलाइन हैं तो आपको ऐसे कई बार देखने को मिला होगा की आपका कोई डाउनलाइन अपने नए डिस्ट्रीब्यूटर को लेकर आता है और आकर आपसे बोलता है, सर यह काम को लेकर बहुत ही कन्फ्यूजन में हैं और ये बोल रहे हैं कि यह काम मुझसे नहीं हो पाएगा।

थोड़ा आप इनको समझा दीजिए और आपने वही पर उनको समझाना शुरू कर देते हैं।

आपने उनको बहुत कुछ समझाया कंपनी के बेनिफिट भी बताया ,लोगों के अचीवमेंट भी बताइए लेकिन वह नहीं समझता है आखिर क्यों नहीं समझ पाता है?

आज के इस लेख में मैं आप सभी को यही बताऊंगा की नेगेटिव लोगों को कैसे समझाएं, तो आप इस लेख को पूरा जरुर पढ़ें।

डायरेक्ट सेलिंग में सफल होना है तो ह्यूमन साइकोलॉजी को समझना होगा। कोई भी व्यक्ति लॉजिक के आधार पर नहीं बल्कि इमोशंस के आधार पर निर्णय लेते हैं।

जैसे ही नेगेटिव डिस्ट्रीब्यूटर के सामने आपको उसको समझाने के लिए कहा गया उसी समय उस नए डिस्ट्रीब्यूटर का माइंड बंद हो गया।

अब उसका माइंड कुछ भी इनपुट लेने के लिए तैयार नहीं है। अब आप उसको जितना ही समझाने की कोशिश करेंगे उतना ही वह चिड़चिड़ापन महसूस करेगा।

यानी कि इरिटेट होगा ,नेगेटिव होगा, हो सकता है कि वह किसी मजबूरी की वजह से उस काम को न करना चाहता हो लेकिन आपने उसको ग्रेट अपलाइन के सामने नेगेटिव बोल दिया।

कोई भी इंसान अपने आप को नेगेटिव कभी नहीं मानता है। चाहे वह इस बिजनेस को लेकर कितना ही नेगेटिव क्यों ना हो। अगर कोई डाउनलाइन नेगेटिव है तो उसको किसी ऑफलाइन के सामने ले जाकर यह नहीं बोलना चाहिए कि यह नेगेटिव है या यह काम नहीं करना चाहते हैं।

डायरेक्ट सेल्लिंग में NEGATIVE लोगों को समझाने का सबसे आसान तरीका Easiest way to convince NEGATIVE people in Direct Selling

Easiest way to convince NEGATIVE people in Direct Selling

आपको यह जानने का प्रयास करना चाहिए कि वह नेगेटिव क्यों हैं?

  1. सबसे पहला किसी सलाहकार के वजह से, यानी कि कोई व्यक्ति उनको फोन करके बोल देता है कि इस काम में पैसा नहीं मिलता है, यह जोड़ने वाला काम है और मैं इस काम को पहले ही कर चुका हूं, इसमें कुछ भी नहीं होता यह केवल टाइम पास है।
  2. किसी नेगेटिव डिस्ट्रीब्यूटर की वजह से नेगेटिव हो जाता है या ऐसा भी हो सकता है कोई पुराना डिसटीब्यूटर जो काफी लंबे समय से एक ही लेवल पर है और उसका चेक नहीं बनता तो वह मन ही मन नेगेटिव रहता है और जैसे ही कोई नया डिस्ट्रीब्यूटर उनसे पूछने के लिए जाता है कि आपको कितना दिन हुआ काम करते हुए और आप इसमें कितना पैसा कमाते हैं तो वह इमोशंस में आकर सारी सच्चाई बता देता है उसकी वजह से भी हो नेगेटिव हो सकता है।
  3. यह भी हो सकता है कि सच में उसको कोई GUNIUNE PROBLEMS है उनके घर में सच में कोई ऐसी प्रॉब्लम है जिसकी वजह से वह काम को नहीं करना चाह रहे हैं। इसीलिए सबसे पहले आपको यह जानने का प्रयास करना चाहिए कि उनकी नेगेटिविटी की मुख्य कारण क्या है।

जिस तरह से डॉक्टर पहले टेस्ट लेकर पता करता है की बीमारी कौन सी है बिना बीमारी पता किए इलाज करना बहुत ही मुश्किल होता है।

  1. सेम उसी तरह आपको सबसे पहले उनके नेगेटिविटी को पता करना होगा और नेगेटिविटी को पता करने के बाद आप अपने अपलाइन को कॉल करके पूरी बात बता सकते हैं और यह बोल सकते हैं कि इस इस वजह से यह नेगेटिव हैं और इनको मैं आपके पास लेकर आ रहा हूं आप समझा दीजिए।
  2. यह भी हो सकता है अगर आपके पास ग्रेट अपलाइन का नंबर नहीं है तो भी आप एकांत में मिलकर उनसे सारी बातें बता दीजिए और उसके बाद उस डिस्ट्रीब्यूटर को उनके पास लेकर जाइए।

यहां पर आपको यह बात ध्यान में रखना है कि अगर आप साथ में उस नेगेटिव डिस्ट्रीब्यूटर को लेकर गए हैं तो एकांत में जाकर ना मिले।

नहीं तो जब आपका अपलाइन उनको समझाना शुरू करेंगे तो वह समज जाएगा कि आपने ही सारी बातें बताई है। आपको सारा काम प्लानिंग करके ही करना है उसको पता नहीं चलना चाहिए कि आप उसको समझाने के लिए लेकर आए हैं।

  1. उनके जैसा ही डिस्ट्रीब्यूटर से मिलाइए जोकि उसी तरह की प्रॉब्लम से कभी ना कभी गुजर रहे थे वह अपनी पूरी कहानी जब उसको बताएंगे तो आपका डिस्ट्रीब्यूटर पॉजिटिव हो सकता है।

इसी को एक उदाहरण के माध्यम से समझ लेते हैं

किसी सलाहकार के वजह से आपका गेस्ट नेगेटिव हो जाता है, कोई कॉल करके उसको यह बोल दीया की यह काम तो जोड़ने वाला काम है, इसमें पैसा नहीं मिलता है, यह सिर्फ टाइमपास वाला काम है।

ऐसे में उसको समझाना आसान हो जाता है कि आपने पहले ही उसका सही कारण पता कर लिया की इसके पास किसी ने कॉल करके इसको नेगेटिव किया है।

अब आप अपने अपलाइन को कॉल करके सारा बात बता दीजिए और 15 से 20 मिनट के बाद उसको अपने अपलाइन के पास लेकर जाइए।

तो सबसे पहले आपलाइन उसके साथ रेपो बिल्ड करेंगे यानी कि उसके साथ रिलेशनशिप बनाएंगे उसके माइंड में जो लॉक लगा है उसको खोलेंगे इसके लिए वह उनसे हाल-चाल पूछेंगे और उनके घर के बारे में पूछेंगे उनके घर में कौन-कौन है और उनके पापा क्या करते हैं और वह पढ़ाई कहां तक किए हैं और कहां पर जॉब करते हैं, पोस्ट क्या है।

और इसके बीच-बीच में एप्रिशिएट करते रहना है, इससे रेपो बिल्ड होता है। इसके बाद आप अपने बारे में बताना स्टार्ट कीजिए और 1 से 2 मिनट के बाद आप अपने मुद्दे पर आ जाइए की आज से लगभग 5 से 6 महीना पहले जब मैंने इस बिजनेस को जॉइन किया था और उसके 2 दिन बाद मेरे दोस्त का कॉल आया और उसने मुझसे यह पूछा कि आज कल क्या कर रहे हो भाई, तब मैंने उससे यह बता दिया कि मैं इस कंपनी में काम कर रहा हूँ।

तो वह मुझसे उस टाइम ये बोला था कि मैं उस कंपनी में काम कर चुका हूं वह तो सिर्फ जोड़ने वाला काम है उसमें बड़ी-बड़ी बातें करते हैं बड़े-बड़े सपने दिखाते हैं होता कुछ नहीं है।

उसमें कुछ भी नहीं मिलेगा तुम उस काम को छोड़ दो इतना सुनते ही मेरा तो दिमाग खराब हो गया था। तब मैं मन ही मन यह सोचने लगा था कि अपलाइन ने तो मुझे फंसा दिया है तब मैं अपलाइन के पास जाकर उनको वह सारी बातें बता दिया जो मेरे दोस्त ने मुझसे कहा था।

तब सबसे पहले मेरे अपलाइन ने मुझसे यह पूछा था कि आप यह बताइए कि जोड़ना किसको कहते हैं उन्होंने मुझे कई बड़ी-बड़ी कंपनियों का उदाहरण देकर टाटा, अंबानी, नेता, अभिनेता का उदाहरण देकर मुझे समझाया कि अब आप यह बताइए कि यह जोड़ने वाला काम करते हैं कि नहीं।

टाटा में लगभग 20 लाख लोग जुड़े हैं और रिलायंस में लगभग 10 लाख लोग जुड़े हैं JIO के साथ करोड़ों लोग जुड़े हैं और उन्होंने मुझे टीम वर्क का फायदा भी बताया कि किस तरह से एक बिजनेसमैन की वर्कर से काम करा कर करोड़पति और अरबपति भी बन जाता है और वह वर्कर उसी कंपनी में जिंदगी भर ₹20,000 से ₹25000 कमाते हैं और अपनी पूरी जिंदगी उसी कंपनी में गुजार देते हैं।

तब मुझे समझ में आया और मैंने अपने अपलाइन के बातों को मानकर काम करना शुरू कर दिया। आज मैं इस लेवल पर इतना पैसा कमा रहा हूं और बहुत ही अच्छे से मेरी जिंदगी चल रही है।

अगर मैं उस व्यक्ति के बातों को मानकर काम को छोड़ दिया होता तो मैं भी किसी कंपनी में पूरे दिन काम करके 20 से ₹25000 महीने का कमा रहा होता और मैं कभी भी अपने सपनों को पूरा नहीं कर पाता
आपके पास भी ऐसा कॉल आ सकता है या कोई व्यक्ति आपसे भी यह सब बात करके नेगेटिव कर सकता है लेकिन आप एक बात को याद रखिएगा लोग सिर्फ सलाह देते हैं

मैं आपको पूरा पूरा सपोर्ट करूंगा, आप दिल से काम कीजिए अगर आपको कोई समस्या है तो बताइए तब आपका डिस्ट्रीब्यूटर आपसे यह बोलेगा कि नहीं सर मैं इस काम को करूंगा 95 % यही चांस है कि वह नेगेटिव डिस्ट्रीब्यूटर इस बात को सुनकर पॉजिटिव हो जाएगा और काम करना शुरू कर देगा।

आप इसको एक बार जरूर ट्राई कीजिएगा यह तरीका आपके बहुत काम आयेगा।

यदि आप सभी को आज का हमारा यह लेख “डायरेक्ट सेल्लिंग में NEGATIVE लोगों को समझाने का सबसे आसान तरीका Easiest way to convince NEGATIVE people in Direct Selling” पसंद आया हो तो कृपया करके आप सभी हमारे इस लेख को अपने टीम के हर मेंबर के साथ जरूर शेयर करें ताकि वह सभी लोग भी “डायरेक्ट सेल्लिंग में NEGATIVE लोगों को समझाने का सबसे आसान तरीका Easiest way to convince NEGATIVE people in Direct Selling” के बारे में समझ सके और दूसरों को समझा सके।

इसे भी पढ़ें

आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

अपने नेटवर्क मार्केटिंग बिज़नेस को 10 गुना रफ़्तार से बढाने के लिए हमारे साथ जुड़िये

नेटवर्क मार्केटिंग हिंदी VIP कम्युनिटी
टेलीग्राम चैनल
ज्वाइन करें
नेटवर्क मार्केटिंग हिंदी
टेलीग्राम ग्रुप डिस्कशन
ज्वाइन करें
नेटवर्क मार्केटिंग हिंदी फेसबुक पेज फॉलो करें
नेटवर्क मार्केटिंग हिंदी फेसबुक ग्रुपज्वाइन करें

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top