5 Network Marketing myths in Hindi || Network Marketing or MLM Facts

5 Network Marketing myths in Hindi ; हम सभी जानते हैं कि डायरेक्ट सेलिंग बहुत सारी सवालों से घिरी हुई इंडस्ट्री है । काफी लोग तो डायरेक्ट सेलिंग में Join होने के बाद, यही नहीं समझ पाते है कि उन्हें करना क्या है? और कुछ समय डायरेक्ट सेलिंग में गुजारने के बाद डायरेक्ट सेलिंग को ही गलत ठहराते हैं। यह तो वह बात हुई की-

” अगर मुझे कार चलाना नहीं आता तो मैं यह कह दूं की कार ही गलत बनाई है बनाने वाले ने “, इसके अलावा कुछ लोग तो डायरेक्ट सेलिंग के नाम पर चलने वाली फ्राड कंपनी के साथ अपना समय और पैसा दोनों ही लगाकर, समय और पैसा दोनों बर्बाद कर देते हैं। फिर वह डायरेक्ट सेलिंग को ही गलत बोलते हैं।

जबकि वह लोग अपना पैसा किसी फ्राड कम्पनी में लगा देते हैं, पैसो के लालच की वजह से, कंपनी के साथ एसोसिएटेड होते हैं। इसी वजह से डायरेक्ट सेलिंग को लेकर इंडिया में बहुत सी गलत फैहमियां लोगों के दिल और दिमाग में भरी हुई है । आज यह लेख हर उस डायरेक्ट सेलर के लिए है जो अपना करियर डायरेक्ट सेलिंग इंडस्ट्री में देखते हैं।

5-Network-Marketing-myths-in-Hindi
5 Network Marketing myths

1. Fear Of People

FEAR OF PEOPLE मतलब बहुत सारे लोग यह सोचते हैं की एक दिन उनकी कंपनी का प्लान खत्म हो जाएगा या फिर कंपनी में लोग ही नहीं बचेंगे जिन्हें वह लोग Join करवाएं, जबकि रियलिटी कुछ और ही होती है । वैसे तो यह बात हर कोई जानता है मगर फिर भी मैं आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि हर डायरेक्ट सेलिंग कंपनी के अपने कुछ प्रोडक्ट होते हैं।

वह प्रोडक्ट आवश्यकता के अनुसार बनाए जाते हैं। तो आप खुद सोच कर देखिए कि, क्या लोगों का आवश्यकता कभी खत्म होगी या फिर वह आगे और बढ़ेगी? बात रही पॉपुलेशन की तो मैं आप सभी को बता दु की India में हर मिनट में 34 बच्चे पैदा होते है । और हर मिनट में 10 लोग मर जाते हैं।

Advertisement

अगर घण्टे में बात करें तो हर घंटे 2062 बच्चे पैदा होते हैं और 603 लोग मर जाते हैं। अगर बात करें 1 दिन में यनिकी 24 घण्टे में, 49481 बच्चे पैदा होते हैं और 14475 लोग मर जातें हैं। अगर बात करें महीने की तो हर महीने में 1.5 Million लोग पैदा होते है और 0.4 Million लोग मर जातें हैं। तो अब आप खुद ही अंदाजा लगा कर देखिए कि पापुलेशन बढ़ रही है या घट रही है।

अगर देखा जाए तो 1 मिनट में कितने बच्चे पैदा हो रहे है इस हिसाब से आपका बिजनेस और मार्केट हर मिनट बढ़ती ही जा रही है। यह तो आप पर डिपेंड करता है कि आप कितना मार्केट कैपचर कर पाते हैं। अब आपको यह लग रहा होगा कि हर कोई थोड़ी न डायरेक्ट सेलिंग बिजनेस को ज्वाइन करेगा,

तो आप बिल्कुल सही है मगर देखा जाए तो हर कोई डॉक्टर, इंजीनियर, लॉयर, टीचर थोड़ी बनेगा। अलग-अलग प्रोफेशन का भी तो चुनाव करेंगे लोग। लोग जॉब करना चाहेंगे या फिर बिजनेस करना चाहेंगे अब उसमें से बहुत सारे लोग होंगे जो डायरेक्ट सेलिंग का भी चुनाव करें।

2. Money Double System.

यह आजकल बहुत ही कामन हो गया है, जब भी आप किसी को प्लान शो करने जाते हैं, तो उल्टा आपको ही प्लान शो कर देता है। देखिए दरअसल ऐसा होता क्यों है यह हम सभी जानते हैं क्योंकि बहुत सारे लोग लालच मे आ जाते हैं और एक आम आदमी का पैसा इन्वेस्ट करके खुद प्रॉफिट निकाल लेते हैं,

और उस आम आदमी के पैसे को डूबा देते हैं जो कि बिल्कुल गलत है और ऐसा बिल्कुल नहीं होना चाहिए। मैं आपको यह बताना चाहुंगा की डायरेक्ट सेलिंग और फ्राड या चिटफण्ड कंपनी money रोटेशन जैसे कंपनी में बहुत बड़ा फर्क होता है। आपको उस फर्क को पहचानना सीखना होगा।

Advertisement

कोई भी डायरेक्ट सेलिंग कंपनी आपको पैसा इन्वेस्ट करने के लिए कभी नहीं कहती है, हर डायरेक्ट सेलिंग कंपनी का अपना एक प्रोडक्ट सेलिंग मॉडल होता है जिसको बिजनेस प्लान कहा जाता है। उस मॉडल पर काम करके आप जो भी प्रोडक्ट सेल करते हैं खुद या फिर अपनी टीम के द्वारा इसे सेल करवाते हैं तो उसके हिसाब से पेआउट बनता है।

अगर कोई भी आपको कहता है कि आप 10000 मेरी डायरेक्ट सेलिंग कंपनी के अंदर इन्वेस्ट कर दीजिए और आपको अगले 6 महीने तक लगातार इतने-इतने पैसे आते रहेंगे तो वह डायरेक्ट सेलिंग कंपनी बिल्कुल भी नहीं है वह एक चिट फण्ड कंपनी है। जो कुछ समय के लिए मार्केट में आई है और जैसे उसका टारगेट पूरा होगा वह मार्केट से चली जाएगी। एक बात और अगर आप फिर भी अपना पैसा किसी ऐसे कंपनी में इन्वेस्ट करते हैं, तो वह आपकी गलती है, डायरेक्ट सेलिंग इंडस्ट्री कि नहीं।

3. Fast Millionaire Scheme.

आज अगर आप देखेंगे तो सबसे ज्यादा युथ यह सोच कर डायरेक्ट सेलिंग इंडस्ट्री को join करता है कि वह join करते ही कुछ ही महीनों के अंदर एक मिलेनियर बन जाएगा किसी भी कंपनी के अंदर। यहां पर बिल्कुल इस तरीके से काम नहीं होता है और अगर देखा जाए तो इसमें युथ की भी गलती नहीं है,

हंड्रेड परसेंट गलती उन लोगों की होती है जो लोग उन्हें सिखाते हैं और यह दिखाते हैं कि आप ऐसा करेंगे तो ऐसा आपके साथ हो सकता है, कि आओ और सिर्फ 6 महीने के अंदर में आपके जिंदगी को 360 डिग्री में चेंज कर दूंगा। बस उसी अट्रेक्शन में आकर वह लोग ऐसे चिटफण्ड कंपनी को join कर लेते हैं ।

लेकिन जब उन्हें कोई आप जैसे लीडर मिलते हैं, जो उनको रियलिटी बताते हैं, जो कि बिल्कुल सच है, तो लोग उसे मानने के लिए बिल्कुल तैयार नहीं होते है । मगर मैं आपको यह बताना चाहता हूं कि डायरेक्ट सेलिंग बिजनेस में – Consistency, Patience, Hard work, Practice, Learning इत्यादि का होना बहुत जरूरी हैं।

Advertisement

जैसे आप आईआईटी, लव गवर्नमेंट, जॉब्स, एमबीबीएस और भी बहुत सारी डिग्रीस की तैयारी करते हैं, सेम उसी तरह डायरेक्ट सेलिंग बिजनेस में भी सफल होने के लिए प्रॉपर तैयारी की जाती है। वह Consistency से ही आती है, तो कभी भी किसी की भी बातों में न आएं । डायरेक्ट सेलिंग कभी भी आपको एकदम से मिलेनियर नहीं बनाती है यह आपको समझना होगा।

4. Leaders are the Earners.

ऐसा बहुत बार देखा गया है कि बहुत सारे लोगों का यह मानना होता है कि अब कंपनी में कुछ नहीं बचा, सिर्फ ऊपर वाले लीडर ही पैसा कमा रहे हैं। हम और आप जैसे लोग सिर्फ यहां आए हैं इसीलिए कि हम उन्हें पैसा कमा कर दे सके, तो इसीलिए यह हमारे लिए जरूरी है कि हम किसी नई कंपनी को ज्वाइन कर ले ताकि हम वहां से पैसा कमा सकें।

आपका ऐसा सोचना और ऐसा मानना बिल्कुल सही है, क्योंकि डायरेक्ट सेलिंग गाइडलाइन जो कि 2016 के अंदर गवर्नमेंट ऑफ इंडिया ने जारी की थी, उसके क्लोज 1 के सबक्लोज 11के अंदर पिरामिड स्कीम नाम की एक डेफिनेशन दी गई है।, पिरामिड स्कीम का मतलब बिल्कुल यही है,

कि ऊपर वाला जो सबसे टॉप में बैठा है उसी को सारे बेनिफिट मिले और नीचे आप सिर्फ जॉइनिंग करके खुद को बेनिफिट पहुंचाने के लिए काम करें। तो यह सिर्फ एक मानसिकता है ऐसा कुछ नहीं होता हैं। अगर कोई लीडर आज कंपनी से अच्छा पेआउट ले रहा है तो ऐसा बिल्कुल नहीं है कि अब वहां कोई अपॉर्चुनिटी खत्म हो गई है या फिर आप वहां से पैसा नहीं बना सकते।

अगर कोई पिरामिड स्कीम है जिसके अंदर आपने join किया है तो वहां शायद ऐसा हो सकता है लेकिन अगर कोई भी कंपनी डायरेक्ट सेलिंग मॉडल को ठीक तरीके से फॉलो कर रही है तो वहां आपके लिए पैसे कमाने का पूरी-पूरी चांसेस होते हैं। अब यह डिपेंड आप पर करता है कि आपकी स्ट्रैटेजिस क्या होती है,

Advertisement

आप उन्हें किस तरीके से प्लान करते हैं, आप क्या ब्लूप्रिंट फॉलो करते हैं, आप किस तरह से काउन्सलिंग कर रहे हैं उन लोगों की जिन्हें आप अपना प्रोस्पेक्ट मानते हैं । सिर्फ हार्ड वर्क से ही काम नहीं चलता यहां पर आपको स्मार्ट वर्क भी करना पड़ता है इसीलिए कभी कहीं ऐसा नहीं होता कि ऊपर वाले लीडर ही पैसा कमा रहे होते हैं, आप भी पैसा कमा सकते है अपने लीडर से भी ज्यादा।

5. IDSA & FDSA is Compulsory.

यह रेगुलेटरी बॉडीज है। मगर मैं आपको बता देता हूं कि किसी भी कंपनी के लिए इनका मेंबर होना मेंडेटरी नहीं है। मतलब बहुत ज्यादा जरूरी नहीं है। इसका मतलब यह बिल्कुल नहीं है कि यह दोनों ऑर्गेनाइजेशन गलत है। यह दोनों ऑर्गेनाइजेशन डायरेक्ट सेलिंग इंडस्ट्री के बात गवर्नमेंट तक पहुंचाने का काम करती है, तो अगर कोई भी कंपनी एफडीएसए या आईडीएसए में लिस्टिड नहीं है तो इसका मतलब यह बिल्कुल नहीं है कि वह कंपनी इनलीगल कंपनी है।

तो दोस्तों उम्मीद करता हूं कि आप सभी को यह हमारा लेख 5 Network Marketing myths पसंद आया होगा यदि पसंद आया है तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और मुझे कॉमेंट्स कर के बताये कि आप सभी को यह लेख 5 Network Marketing myths कैसा लगा, आप सभी को बहुत-बहुत धनयवाद।

इसे भी पढ़ें :- 101 Important full form of computer related words कंप्यूटर से संबंधित महत्वपूर्ण 101 शब्दों की फुल फार्म

Motivational Thought In Hindi महापुरुषों के अनमोल विचार

Advertisement

Youtube Facts in hindi Youtube रोचक आश्चर्यजनक तथ्य

5 Important Business skills in Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top